Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
पर्यावरण संताप | 2YODOINDIA POETRY | लेखिका श्रीमती प्रभा पांडेय जी | पुरनम | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY JI

|| आ काले मतवाले मेघ ||

आ काले मतवाले मेघ

ओ काले मतवाले मेघ,आ खिल जाये हर जन का मन,
झूम-झूम यूँ बरस कि जिससे,मिट जाये धरती की तपन ।

जेठ आषाढ़ की गरमी से,अंगार बनी धरती हमरी,
हम राह तकत हैं हार गये, तब मुश्किल से आया सावन ।

घर भीतर बैठे थे उदास,दिल चाहे बाहर निकलन को,
सब सूख गये डाली पत्ते,बन आँच बहे जलती सी पवन ।

पंछी कर रहे हैं त्राहि-त्राहि और प्राणी सब बेहाल हुए,
कुछ और अगर ना बरसे तुम,तो रुक जायेगी हर धड़कन ।

हर आँख लगी आकाश दिशा,है ध्यान सभी का मेघों पर,
आ मेघ करें तेरी पूजा और गायें तेरे मंगल वन्दन ।

तेरे आने से उपजेगा,खेतों में सोना और चाँदी,
मत तोड़ हमारी आशाएँ, किस घड़ी करें तेरा दर्शन ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || कोस कोस बेटियाँ ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *