More
    23.1 C
    Delhi
    Wednesday, April 24, 2024
    More

      || बाबुल दे रहा दुआ बेटी ||

      भारी मन से ही सही मगर बाबुल दे रहा दुआ बेटी,
      मैके के सुख दुख छोड़ यहीं अपना ससुराल सजा बेटी ।

      अब तक तू मेरे आँगन की
      चिड़ियों की सखी सहेली थी ।
      भाई बहनों के साथ यहीं
      रोई, गाई और खेली थी ।

      इस आँगन की यादें ले जा और रखना संग सदा बेटी,
      मैके के सुख दुख छोड़ यहीं अपना ससुराल सजा बेटी ।

      आँगन के आमों की शाखों,
      पर तू झूला झूली थी ।
      कोयल की कू कू सुन तू भी
      कू कू करना ना भूली थी ।

      अमराई की ठंडक ले जा लागे ना गर्म हवा बेटी,
      मैके के सुख दुख छोड़ यहीं अपना ससुराल सजा बेटी ।

      मुस्कान तेरी मेरे घर की,
      खुशियों को न्यौता देती थी
      हुईं उदास जो तुम, खुशियाँ,
      गम की नदिया में गोता थी ।

      तू माफ हमें करती जाना हुई हमसे कोई खता बेटी
      मैके के सुख दुख छोड़ यहीं अपना ससुराल सजा बेटी ।

      बाबुल को पुल्कित कर देता,
      बेटी का मुस्काता मुखड़ा ।
      माँ के सीने की बोटी है,
      पिता के दिल का है टुकड़ा ।

      बह रहा आँख से खून निरा, करते हुए तुझे बिदा बेटी
      मैके के सुख दुख छोड़ यहीं अपना ससुराल सजा बेटी ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || बाबुल तेरे घर आंगन में ||

      Related Articles

      2 COMMENTS

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,752FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles