More
    30.1 C
    Delhi
    Sunday, July 14, 2024
    More

      || बचपन के पंछी ||

      बचपन के पंछी

      चपन में दिखते थे पंछी,कहाँ गये सब मैया,
      तोता,मैना की सरगम,चीं चीं करती गौरैया ।

      सूरज की किरणों से पहले का जलतरंग संगीत,
      नीड़ में बैठे बच्चों को चोगा देने की रीत,
      कानों में मिश्री सी लगती थी बहती पुरवैया,
      बचपन में दिखते थे पंछी,कहाँ गये सब मैया ।

      कभी तुम्हारे सूपे से कनकी चुनते जाते थे,
      पानी में अठखेली करते तब कितना भाते थे ।
      मोर कभी करते दिख जाते थे तब ता ता थैया,
      बचपन में दिखते थे पंछी,कहाँ गये सब भैया ।

      घर के पीछे के बरगद पर सूओं की चौपालें,
      अब तो लगता है बस यादों से मन बहला लें ।
      उस मीठे कलरव के आगे फीके सभी गवैया,
      बचपन में दिखते थे पंछी,कहाँ गये सब मैया ।

      कहाँ गये सब पंख पखेरू कहाँ गई चंचलता,
      मन प्राणों को सूना आंगन व बरगद है खलता,
      कैसे भी ला दो माँ संध्या पहले सी सुरमैया,
      बचपन में दिखते थे पंछी,कहाँ गये सब मैया ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || ससुराल से बेटी का पत्र ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,836FansLike
      80FollowersFollow
      721SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles