Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| बदरिया थम थम बरस | BADARIYA THAM THAM BARAS ||

बदरिया थम थम बरस

मेरी बेटी चली है ससुराल बदरिया थम थम बरस,
भये नैना ज्यों तलैया-ताल, बदरिया थम थम बरस ।

बस में था जो सब दिया है कपड़ा व गहना दिया है,
घर का सब सामान,फर्नीचर भी तो बढ़िया दिया है ।

भीग जाये न बिटिया का माल,बदरिया थम थम बरस,
मेरी बेटी चली है ससुराल बदरिया थम थम बरस ।

एक से बढ़ चढ़ सब आये हैं बाराती सूट पहने,
शेरवानी में दूल्हे राजा सजे उनके क्या कहने ।

मेरे रंग ना भंग अब तू डाल बदरिया थम थम बरस,
मेरी बेटी चली है ससुराल बदरिया थम थम बरस ।

आतिशबाजी ढोल ढमाके कैसे चमके और बजेंगे,
घुट न जाये धुन शहनाई डोली वंदन कैसे सजेंगे ।

गरड़ गड़ और भरड़ भड़ संभाल, बदरिया थम थम बरस,
मेरी बेटी चली है ससुराल बदरिया थम थम बरस ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

FOR MORE POETRY BY PRABHA JI VISIT माँ में तेरी सोनचिरैया

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || जल प्रदूषण ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.