More
    35.1 C
    Delhi
    Wednesday, May 22, 2024
    More

      || बरखा की रिमझिम बूँदों से ||

      बरखा की रिमझिम बूँदों से

      बरखा की रिमझिम बूँदों से,धरती पर बिछी हरी मखमल,
      सनन-सनन चली मधुर पवन, मन हुए सभी के अब चंचल ।

      नवयौवन की मादकता से,ज्यों झूम उठी डाली-डाली,
      खिल गये फूल सुन्दर अनुपम,रसभरी धरा है अब जल-थल ।

      जुगनू चमके जब बादल में,चुनरी में जड़े नगीने हैं,
      कहीं पिहू-पिहू कहीं कुहू-कुहू,कभी पपीहरा कभी कोयल ।

      हैं भरे-भरे नदियाँ नाले,कहीं उफन-उफन जल धार बहे,
      हर डगर-डगर अब धुली-धुली,हर खेत में फैला जल निर्मल ।

      सावन में मेलों के झूले,राखी और नागपंचमी भी,
      हर दिन मुस्काता,मदमाता,हर दिन त्यौहार की हलचल ।

      खेतों में सोना उपजेगा,है सबके मन में भाव यही,
      आँखों में सुख की आस लिये, निकले किसान धर कांधे हल ।।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || किसी काम से | KISI KAAM SE ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,844FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles