Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
पर्यावरण संताप | 2YODOINDIA POETRY | लेखिका श्रीमती प्रभा पांडेय जी | पुरनम | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY JI

|| बरसात के दिन आये ||

बरसात के दिन आये

बरसात के दिन आये,बरसात के दिन आये,
सावन के मेलों में,नगमात के दिन आये ।

धरती पर बिछ गई है, हर ओर नई चादर,
बिजली का शोर लेकर,गरजात के दिन आये ।

खेतों में भरा पानी,हुई प्रकृति फिर धानी,
खलिहान अब भरेंगे,सौगात के दिन आये ।

हैं तृप्त सभी नजरें, खुशियों से भरे आँचल,
कर लेंगे काम मिलकर,बढ़े हाथ के दिन आये ।

हो जायेंगी अब पूरी, जन-जन की जरुरत भी,
खलिहान और खेतों की,करें बात के दिन आये ।

धन धान्य से भर जायें, अपने भी आँगन अब,
खुशियों की सज के आई,बारात के दिन आये ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || ठंडा मीठा पानी ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.