More
    35.1 C
    Delhi
    Tuesday, April 23, 2024
    More

      || बेटी सयानी | BETI SAYANI ||

      बेटी सयानी

      मारे है मंहगाई इधर और उधर बेटी सयानी,
      हो न हो धन फिर भी सबको रीत पड़ती है निभानी ।

      बाकी सारे रोने-धोने एक तरफ रख भी दें तो भी,
      रीत लगुन फलदान सरीखी में माँगें है ‘लाख जुबानी’ ।

      द्वारचार,दूध भाती जैसे नेग सभी तो रहे अलग से,
      पग-पग लगे पिता को ज्यूँ पड़ जाये न ऐम्बुलेंस बुलानी ।

      कन्यादान के वक्त कहाँ कुछ कम लुटता है बेटी वाला,
      कर्ज के भँवर में सीधे ही पहुँचाता है दो लोटा पानी ।

      अलग से हर बराती को भी देना पड़ता है उपहार,
      वो भी कहीं हुआ छोटा तो बन जाती घर-घर की कहानी ।

      हर रिवाज यदि हँसते-हँसते पूरा हो जाये तो भी तो,
      लाख न चाहे छलक ही आता है सबकी आँखों में पानी ।

      और अंत में भगवान से कुछ ऐसी दुआ अवश्य माँगते,
      रहे जहाँ भी रहे सदा खुश दुआ हमारी ले जा जानी ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      FOR MORE POETRY FROM PRABHA PANDEY JI VISIT माँ में तेरी सोनचिरैया

      ALSO READ  || जल जीवन है ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,752FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles