Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
Devpitrikarya Amavasya 2022 | Know Full Details | 2YoDo Special | Date of Marshish Amavasya | Auspicious time on Marshish Amavasya | Sarvartha Siddhi Yog on Marshish Amavasya | Significance of Marshish Amavasya | देवपितृकार्य अमावस्या आज | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष | मार्गशीर्ष अमावस्या की तिथि | मार्गशीर्ष अमावस्या को स्नान-दान मुहूर्त | मार्गशीर्ष अमावस्या पर सर्वार्थ सिद्धि योग | मार्गशीर्ष अमावस्या का महत्व | 2YODOINDIA

देवपितृकार्य अमावस्या आज | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष

अमावस्या को सुबह से ही शोभन योग लग रहा है, शुभ होता है शोभन योग, हिंदू कैलेंडर के अनुसार, मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को मार्गशीर्ष अमावस्या होती है।

मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने और उसके बाद दान करने का विशेष महत्व है। ऐसा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है और पितर भी तृप्त होते हैं। मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन पितृ दोष से मुक्ति के उपाय भी किए जाते हैं।

मार्गशीर्ष अमावस्या की तिथि

पंचांग के अनुसार, इस साल मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि 23rd नवंबर दिन बुधवार को सुबह 06 बजकर 53 मिनट से प्रारंभ हो रही है और इस तिथि का समापन 24th नवंबर को प्रात: 04 बजकर 26 मिनट पर हो रहा है।

ऐसे में मार्गशीर्ष अमावस्या 23rd नवंबर को है क्योंकि 24th नवंबर को अमावस्या तिथि सूर्योदय पूर्व ही खत्म हो जा रही है।

23rd नवंबर को सूर्योदय सुबह 06 बजकर 50 मिनट पर हो रहा है। अमावस्या की उदयातिथि 23rd नवंबर को प्राप्त हो रही है।

मार्गशीर्ष अमावस्या को स्नान-दान मुहूर्त

मार्गशीर्ष अमावस्या को प्रात:काल से ही शोभन योग लग रहा है, जो दोपहर 03 बजकर 40 मिनट तक है। यह शुभ योग है।

वहीं मार्गशीर्ष अमावस्या को प्रात: 06 बजकर 40 मिनट से सुबह 08 बजकर 01 मिनट तक शुभ उत्तम मुहूर्त है।

इस वजह से मार्गशीर्ष अमावस्या का स्नान और दान प्रात:काल से लेकर सुबह 08:01 बजे के मध्य तक कर लेना चाहिए।

ALSO READ  कुंडली का पंचम भाव | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष
मार्गशीर्ष अमावस्या पर सर्वार्थ सिद्धि योग

इस साल मार्गशीर्ष अमावस्या पर सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग बना हुआ है।

हालांकि इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग रात 09 बजकर 37 मिनट से अगली सुबह 06 बजकर 51 मिनट तक है। इस पर ही अमृत सिद्धि योग भी बन रहा है।

मार्गशीर्ष अमावस्या का महत्व

सभी अमावस्या के समान ही मार्गशीर्ष अमावस्या भी पितरों के लिए महत्वपूर्ण होती है।

इस दिन नदी में स्नान के बाद पितरों को जल से तर्पण करना चाहिए।

इससे पितर प्रसन्न और तृप्त होते हैं।

जिन लोगों पर पितृ दोष होता है, उनको मार्गशीर्ष अमावस्या को अपने पितरों के लिए पिंडदान, श्राद्ध, तर्पण आदि कार्य करना चाहिए।

इस दिन पूजा के समय गजेंद्र मोक्ष का पाठ करना चाहिए।

Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *