Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| फैशनपरस्ती ||

गड्ढे में आधुनिकता के ना गड़ने दीजिये,
फैशनपरस्ती बच्चों में ना पड़ने दीजिये ।

लिखने और पढ़ने से रिस्ता टूट जायेगा,
विकास भी स्वयमेव उनसे रूठ जायेगा ।
विकास की आशा किरण उभरने दीजिये,
फैशनपरस्ती बच्चों में ना पड़ने दीजिये ।

बढ़ते हुए कदम जहाँ के तहाँ रुकेंगे,
स्वाभिमान छोड़ चाहे जहाँ झुकेंगे।
आत्मबोध मंथन मन में करने दीजिये,
फैशनपरस्ती बच्चों में ना पड़ने दीजिये ।

सम्मान बड़ों का मृदु व्यवहार सिखायें,
व्यवहार में अपने भी सद्व्यवहार दिखायें ।
लड़े अंधकार से,खुद लड़ने दीजिये,
फैशनपरस्ती बच्चों में ना पड़ने दीजिये ।

सादा जीवन है भला उन्हें सिखाईये,
उच्च विचार की कला उन्हें सिखाईये ।
सुगंध और प्रकाश से सँवरने दीजिये,
फैशनपरस्ती बच्चों में ना पड़ने दीजिये ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || सरस्वती नमन | SARASWATI NAMAN ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.