Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| गला घोंट मारना ||

आत्मा को चाहते भव सागर पार उतारना,
छोड़ दो तुम बेटियों को गला घोंट मारना ।


चाहते हो घर में तुम सुख-शान्ति सम्पन्नता,
छोड़ दो बहुएं जला,अपना घर उजाड़ना ।


चाहते समाज को तुम उन्नति के शिखर पर,
छोड़ दो देना तुम गृहलक्ष्मी को प्रताड़ना ।


चाहते हो पीढ़ियों तक नाम रहे रोशन तो,
छोड़ दो तुम कन्यारत्न की जड़ें उखाड़ना ।


हवा बहे सौहार्द्र की जिन्दा रहे संवेदना,
बेटियों को शिक्षा, ज्ञान, मान से सँवारना ।


प्रकृति की सबसे अनुपम कृति है बेटियाँ,
मान करना हृदय से यदि रोये तो दुलारना ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || सबसे सुन्दर कृति | SABSE SUNDER KRITI ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.