Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| हूँ आपकी ही बेटी ||

हूँ आपकी ही बेटी मुझे मारिये नहीं,
चटा अफीम यूँ झूले में डारिये नहीं ।

किसी ना किसी का वंश तो चलेगा मुझसे,
बेटा कभी किसी का तो पलेगा मुझसे ।
श्वेत वस्त्र दे धरा में यूं गाड़िये नहीं,
हूँ आपकी ही बेटी मुझे मारिये नहीं ।


आपकी भी माँ कभी बेटी रही होगी,
पीर आपके लिये ना उसने सही होगी ।
जन्म मैं भी दूँगी कभी,बिसारिये नहीं,
हूँ आपकी ही बेटी मुझे मारिये नहीं ।


कोई कोई बेटियों को फिरे तरसता,
फिर भी मेह प्रार्थना पर नहीं बरसता ।
कुदरत की रची पौध हूँ उजाड़िये नहीं,
हूँ आपकी ही बेटी मुझे मारिये नहीं ।


प्रार्थना से मेरी घर भैया भी आयेगा,
पूण्य कन्यादान का घर भर कमायेगा ।
अपने हाथों भाग्य खुद बिगाड़िये नहीं,
हूँ आपकी ही बेटी मुझे मारिये नहीं ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || माँ का हृदय | MAA KA HIRADEY ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.