Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| कोस कोस बेटियाँ ||

कोस कोस बेटियाँ अपमान मत करो,
बढ़ बढ़ के बेटा जन्म पर मान मत करो ।


बेटा बेटी दोनों ही हैं देन कुदरत की,
इसलिये ना मान या अपमान मत करो ।


पैदा किया तुमको वो बेटी थी किसी की,
जननी गुणधर्म पर एहसान मत करो ।


पत्नी तुम्हारी भी है, बेटी किसी की,
बेटी जन्म पर उसे परेशान मत करो ।


पढ़ -लिख उठा लेगी बोझ तेरे कंधे का,
बेटी है बोझ ऐसा कुछ ऐलान मत कर ।


ब्याह कर बेटियों का देखभाल कर,
किसी हाल बेटियाँ बलिदान मत करो ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || सोन चिरैया ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *