Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| माता-पिता का ध्यान | MAATA PITA KA DHYAN ||

माता-पिता का ध्यान

इंसाँ जो रखते नहीं मात-पिता का ध्यान,
हो सकते हैं वो जानवर पर नहीं हैं इन्सान ।

स्वयं तो देते हैं दोस्तों को नित दावत,
माँ-बाप पड़े अलग भला क्यों उनसे अदावत ।
उनकी जरूरतों से बने रहते हैं अनजान,
हो सकते हैं वो जानवर पर नहीं इन्सान ।

बीवी को लगा ठसका आये पल में डॉक्टर,
मा-बाप के दमे की भी रखते नहीं खबर ।
तिस पर भी रखें तुर्रा और दिखायें झूठी शाम,
हो सकते हैं वो जानवर पर नहीं हैं इन्सान ।

दो बोल उनसे बोलने का वक्त नहीं है,
जैसे कि वे स्वयं भी उनका रक्त नहीं हैं ।
इतना जुल्म किस हृदय से सह रहा भगवान,
हो सकते हैं वो जानवर पर नहीं हैं इन्सान ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

FOR MORE POETRY BY PRABHA JI VISIT माँ में तेरी सोनचिरैया

ALSO READ  || हरियाली की महिमा ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *