Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
Mokshada Ekadashi 2022 | Know Full Details | 2YoDo Special | Date of Mokshada Ekadashi | Parana time of Mokshada Ekadashi Vrat | Importance of Mokshada Ekadashi | Keep these rules in mind during Mokshada Ekadashi Vrat | मोक्षदा एकादशी आज | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष | मोक्षदा एकादशी की तिथि | मोक्षदा एकादशी व्रत का पारण समय | मोक्षदा एकादशी का महत्व | मोक्षदा एकादशी व्रत में इन नियमों का रखें ध्यान | 2YODOINDIA

मोक्षदा एकादशी आज | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष

मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी मनाई जाती है। ये एकादशी मोक्ष की प्रार्थना के लिए मनाई जाती है। मोक्षदा एकादशी से आशय मोह को नाश करने वाली एकादशी से है। शास्त्रों के अनुसार मान्यता है कि जो व्यक्ति मोक्षदा एकादशी का व्रत करता है, उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है।

इस व्रत से बढ़कर मोक्ष देने वाला दूसरा कोई भी व्रत नहीं है। मोक्षदा एकादशी के दिन व्रत कर श्री हरि विष्णु का पूजन करने से भगवान विष्णु का आशीर्वाद हमेशा बना रहता है। साथ ही जातक को कर्मों के बंधन से मुक्ति मिल जाती है और मृत्यु के बाद वह मोक्ष को प्राप्त होता है। 

मोक्षदा एकादशी की तिथि

पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि की शुरुआत 3rd दिसंबर 2022, दिन शनिवार को प्रात: 05 बजकर 39 मिनट पर हो रही है। वहीं इस तिथि का समापन अगले दिन 4th दिसंबर रविवार को प्रात: 05 बजकर 34 मिनट पर होगा। ऐसे में उदयातिथि के आधार पर मोक्षदा एकादशी का व्रत 3th दिसंबर को रखा जाएगा।

मोक्षदा एकादशी व्रत का पारण समय  

मोक्षदा एकादशी के दिन व्रत के पारण का समय 4th दिसंबर को दोपहर 01 बजकर 20 मिनट से दोपहर 03 बजकर 27 मिनट तक है।

मोक्षदा एकादशी का महत्व

मोक्षदा एकादशी के दिन व्रत कर भगवान विष्णु की पूजा करने से व्यक्ति को सौभाग्य की प्राप्ति होती है। साथ ही जो भी जातक पूरी श्रद्धा और सच्चे मन से भगवान विष्णु की पूजा और व्रत करता है, उसे मृत्यु के बाद बैकुंठ की प्राप्ति होती है।

ALSO READ  IND vs PAK T20 Match : Man Dies of Cardiac Arrest While Watching | How Excitement can Trigger a Cardiac Arrest
मोक्षदा एकादशी व्रत में इन नियमों का रखें ध्यान
  • जो लोग मोक्षदा एकादशी का व्रत नहीं करते हैं, उन्हें इस दिन चावल का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • मोक्षदा एकादशी को पूरे दिन व्रत रखकर रात्रि जागरण करते हुए श्री हरि विष्णु का स्मरण करना चाहिए।
  • एकादशी व्रत को कभी हरि वासर समाप्त होने से पहले पारण नहीं करना चाहिए।
  • शास्त्रों में द्वादशी समाप्त होने के बाद व्रत का पारण करना पाप के समान माना जाता है।
  • यदि द्वादशी तिथि सूर्योदय से पहले ही समाप्त हो रही हो तो इस स्थिति में सूर्योदय के बाद व्रत का पारण किया जा सकता है।
  • द्वादशी तिथि के दिन प्रातः पूजन व ब्राह्मण को भोजन करवाने के बाद ही व्रत का पारण करना चाहिए।
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *