Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
Ozone Day 2022 | How did the beginning of celebrating Ozone Day happen | What is the history of Ozone Day | 2YoDo Special | History of Ozone Day | What is ozone layer | This is how the damage to the ozone layer reaches | ओजोन दिवस आज | कैसे हुई इस दिन को मनाने की शुरुआत और क्या है इतिहास | 2YoDo विशेष | ओजोन दिवस का इतिहास | ओजोन परत क्या है | ऐसे पहुंचता है ओजोन परत को नुकसान | 2YODOINDIA

ओजोन दिवस आज | कैसे हुई इस दिन को मनाने की शुरुआत और क्या है इतिहास | 2YoDo विशेष

समय-समय पर आप ओजोन परत को लेकर बातें सुनते रहते होंगे कि इसे सुरक्षित रखना है, ओजोन परत पिघल रही है आदि। यही नहीं, इसके प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए कई कदम भी उठाए जाते हैं। इसी कड़ी में हर साल 16 सितंबर को वर्ल्ड ओजोन डे मनाया जाता है और लोगों को जागरूक किया जाता है कि ओजोन परत की कैसे सुरक्षा की जा सकती है। हमें ये समझना होगा कि जितना जरूरी मानव शरीर के लिए ऑक्सीजन है, उतनी ही ओजोन परत भी। इसलिए समय-समय पर वैज्ञानिक इस परत को लेकर लोगों को जागरूक करते हैं। 

ओजोन दिवस का इतिहास

बात ओजोन दिवस के इतिहास की करें, तो 19 दिसंबर 1964 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने ओजोन परत के संरक्षण के लिए 16 सितंबर को अंतरराष्ट्रीय ओजन दिवस मनाने की घोषणा की। यही नहीं, संयुक्त राष्ट्र और 45 अन्य देशों ने ओजोन परत को खत्म करने वाले पदार्थों पर मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर 16 सितंबर 1987 को हस्ताक्षर किए थे। इसके बाद पहली बार 16 सितबर 1995 को विश्व ओजोन दिवस मनाया गया और इसके बाद से हर साल ये दिन मनाया जाता है।

ओजोन परत क्या है?

दरअसल, ओजोन परत ऑक्सीजन के तीन परमाणुओं से मिलकर बनने वाली गैस है और ये पृथ्वी के वायुमंडल की एक परत है, जो सूर्य से आने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों से हमें (मानव जाति) बचाने का काम करती है। यहां आपको बताते चलें कि फ्रांस के भौतिकविदों फैबरी चार्ल्स और हेनरी बुसोन ने 1913 में इस परत की खोज की थी।

ALSO READ  ज़िंदगी में दुविधा की गुंजाइश नहीं होती | 2YoDo विशेष
ऐसे पहुंचता है ओजोन परत को नुकसान

हम घर पर एसी और फ्रिज का इस्तेमाल करते हैं और इनसे जो गैस निकलती है वो ओजोन परत को नुकसान पहुंचाती है। वहीं, प्राकृतिक कारकों में सौर क्रिया, वायुमंडलीय संरचरण, पृथ्वी के रचनात्मक प्लेट किनारों से निकलने वाली गैस, नाइट्रस ऑक्साइड, प्राकृतिक क्लोरीन और केंद्रीय ज्वालामुखी उद्गार से निकलने वाली गैसों से भी ओजोन परत को नुकसान पहुंचता है।

Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.