पर्यावरण संताप | 2YODOINDIA POETRY | लेखिका श्रीमती प्रभा पांडेय जी | पुरनम | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY JI

|| फूल और सुगंध ओढ़े ऋतु ये महान है ||

फूल और सुगंध ओढ़े ऋतु ये महान है

फूल और सुगंध ओढ़े ऋतु ये महान है,
अंग-अंग करें जिसमें मस्ती बखान है,
थिरक-थिरक नाच रहे मोर भी बगियन में,
आ गया बसंत ये सबको ही भान है ।

मीठी-मीठी धूप से है कलियों को चटकाता,
भला लगे फूलों को अब दिनमान है,
वृक्षों से लिपट-लिपट करती आलिंगन है,
इठलाती लताओं की मधु मुस्कान है ।

रति संग कामदेव नाच रहे ठुमक-ठुमक,
प्रेमी जनों में तरंगित सी तान है,
बीच-बीच बादल की लट जैसे उलझी सी,
प्रकृति ने पहना बासंती परिधान है ।

तार-तार कर देते बज्र व पाषाण हृदय,
रमणी के नयनों से निकले जो बाण है,
अमराई की बौर छूकर जो आई हवा,
रसिकों का चूर-चूर करे अभिमान है ।

कोयल की कुहू-कुहू हूक भरे प्रेमियों में,
प्रियतम में लगा रहे प्रतिक्षण ही ध्यान है,
टेसू के रंग रंगी प्रिया अति कामिनी सी,
उर में उमंग लिये तीर की कमान है ।

बिना पिये मदिरा का नशा दिखे अखियन में,
अलसाई देह राशि बहके से प्राण हैं,
ऐसी मिठास भरी पैनी बसंत ऋतु,
उतरे जो धरती पे लुटे भगवान है ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

Share your love

Leave a Reply