Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| सरस्वती नमन | SARASWATI NAMAN ||

सरस्वती नमन

नमन वीणापाणि हो स्वीकार मेरा,
श्रद्धा एवं सुमन से भरा घर मेरा ।

सरस्वती, कल्याणी माँ ज्ञानदायिनी,
करें ज्ञान विज्ञान से विस्तार मेरा ।

सदा चरण पूजूँ ऐ विद्या की देवी,
विनय ,पूजा हो माँ अधिकार मेरा।

तेरा हंस वाहन, धवल श्वेत धारण,
चरण ज्ञान,अमृत ही आहार मेरा ।

दया से मेरी हमको आशीष दे दे,
आभा से हो स्वप्न साकार मेरा ।

करूँ खर्च पल पल बढ़ती ही जाये,
कभी ना हो खाली ये भंडार मेरा ।

रहे सर्वदा सुख जहाँ वास तेरा,
कृपा कण में है माँ आधार मेरा ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

FOR MORE POETRY BY PRABHA JI VISIT माँ में तेरी सोनचिरैया

ALSO READ  || प्रकृति से तालमेल ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.