Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| शिक्षा है अनमोल रतन ||

बेटा हो या बेटी सबको शिक्षा है अनमोल रतन,
खुल जाते हैं ज्ञान के चक्षु हो जाता सुखमय जीवन ।

बिन शिक्षा हर प्राणी जैसे भेड़, बकरियाँ, बैल,गाय,
शिक्षा में तपकर बन जाता हर प्राणी जैसे कुंदन ।

बिन शिक्षा लगता है सबको काला अक्षर भैंस समान,
अक्षर ज्ञान बना देता है पुंज प्रकाश भरा दर्पण ।

शिक्षा है आवश्यक सबको हो मजदूर वो भले किसान,
शिक्षा के कारण बन जाता साधारण मानुख कंचन ।

अधिक नहीं तो कम से कम आवश्यक है अक्षर ज्ञान,
शिक्षा से व्यक्तित्व सँवर जाता जैसे वन में चंदन ।

बिन शिक्षा रहता है आदमी डरा डरा सा,सहमा सा,
शिक्षित जीवन बन जाता है निडर,सुघड़ व सम्पूरन ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || निभा लोगी ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *