More
    33.1 C
    Delhi
    Wednesday, July 17, 2024
    More

      कुछ विशेष ग्रह योग जो देंगे इंजीनियरिंग फील्ड में सफलता | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष

      आज का युग तकनीक का युग है आज प्रत्येक क्षेत्र में टेक्नोलॉजी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। कार्यक्षेत्र में इंजीनियरिंग एक ऐसा क्षेत्र है, जिसकी जरूरत हर जगह पड़ती है। पहले सिविल, इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल इंजीनियरिंग जैसी गिनी-चुनी शाखाएं ही हुआ करती थी, लेकिन जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी बढ़ी, वैसे-वैसे इंजीनियरिंग की अनेक ब्रांच सामने आई।

      वर्तमान में शायद ही कोई ऐसा क्षेत्र या कार्य हो जिसमे मशीनों, और स्वचलित यंत्रों का प्रयोग ना होता हो ग्रामीण क्षेत्रों में खेती से लेकर शहरों में बनने वाली मल्टीस्टोरी बिल्डिंग्स तक और छोटे से मोबाईल से लेकर बड़ी–बड़ी गाड़ियों के निर्माण में इंजीनियर्स और इंजीनियरिंग ही आज अपनी प्रधान भूमिका निभा रही है ऐसे में जब प्रत्येक क्षेत्र में मशीनों और टेक्नोलॉजी अपनी अहम भूमिका निभा रही हो तो इंजीनियरिंग एक अच्छे करियर के रूप में सामने आई है| 

      अब तो यह युग पूरी तरह से तकनीक पर आधारित हो गया है इसलिए इंजीनियरिंग का उपयोग हर जगह बड़ी मात्रा में हो रहा है। इसके साथ ही इंजीनियर्स की डिमांड भी तेजी से बढ़ी है, हालांकि योग्य और कुशल इंजीनियरों की कमी आज भी बनी हुई है और इस फील्ड में कॉम्पीटिशन भी बहुत बढ़ गया है।

      आज के समय में बहुत बड़ी मात्रा में युवा इंजीनियरिंग में करियर बनाने के लिए प्रयासरत रहते हैं, कुछ को सफलता मिल पाती है पर बहुत से इस क्षेत्र में आगे बढ़ने से वंछित भी रह जाते हैं तो वास्तविक रूप से  किसी व्यक्ति के लिए इंजीनियरिंग का क्षेत्र अच्छा और सफलतादायक है या नहीं इसमें ज्योतिष शास्त्र हमारी सहायता और मार्गदर्शन करता है क्योंकि ज्योतिषीय दृष्टि में हमारी कुंडली में बने ग्रह योग ही हमारी प्रतिभा और करियर के क्षेत्र को सुनिश्चित करते हैं  हमारी जन्मकुंडली हमारे जीवन का प्रतिरूप ही होती है जिसके विश्लेषण से हम अपने करियर के लिए सर्वश्रेष्ठ क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, यदि आप भी अपने बच्चों को इंजीनियर बनाना चाहते हैं तो पहले उनकी जन्मकुंडली दिखा लें, क्योंकि ज्योतिष सही कॅरियर चुनने में बड़ी मदद करता है।

      ALSO READ  राशिफल व पंचांग | 1st मई 2024

      तो आईये जानते हैं कौन से ग्रह और ग्रह योग व्यक्ति को इंजीनियरिंग और तकनीकी क्षेत्रों में सफलता दिलाते हैं।

      वैदिक ज्योतिष में मंगल और शनि से इंजीनियरिंग और तकनीकी क्षेत्र के बारे में विचार किया जाता है। शनि को लौह से जुड़े पदार्थों, मशीनों, औजारों, उपकरणों, इलेक्ट्रॉनिक्स आदि का प्रतिनिधि ग्रह माना जाता है।

      और मंगल विद्युत का कारक होकर मशीनों को संचालित करने का कार्य करता है तो वहीँ निर्माण कार्यों की तकनीक भी मंगल ग्रह को ही माना गया है, शनि और मंगल ही तकनीकी कार्यों और टेक्नोलॉजी में अपनी विशेष भूमिका निभाते हैं और व्यक्ति को तकनीकी समझ और तकनीकी कार्यों में रुचि पैदा करते हैं अतः निष्कर्षतः शनि और मंगल की अच्छी स्थिति ही व्यक्ति को इंजीनियरिंग के क्षेत्र से जोड़ती है अतः कुंडली में यदि शनि और मंगल बलि और शुभ स्थिति में हों या करियर को प्रभावित कर रहे हों तो व्यक्ति को तकनीकी कार्यों और इंजीनियरिंग में सफलता मिलती है।

      इसमें भी विशेष रूप से शनि मेकैनिकल इंजीनियरिंग और गाड़ियों, वाहनों और मशीनों से जुड़े कार्यों में सफलता देता है तो मंगल इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स, सिविल इंजीनियरिंग, विद्युत् क्षेत्र और निर्माण कला से जुड़े तकनीकी क्षेत्र में सफलता देता है शनि और मंगल में से तुलनात्मक दृष्टि से जो अधिक बलवान और शुभ स्थिति में हो उससे सम्बंधित क्षेत्र ही श्रेष्ठ और सफलतादायक होता है।

      इसके अलावा वायुतत्व राशियों (मिथुन,तुला,कुम्भ) का दशम भाव (करियर का भाव) लग्न और पंचम भाव में होना भी बुद्धिपरक और गहन अध्ययन वाले कार्यों में सहायक होता है तथा कुंडली में बुद्धिकारक बुध ज्ञान कारक बृहस्पति और पंचम भाव का बलि होना अच्छी शिक्षा और बौद्धिक क्षमता देकर इंजीनियरिंग की सफलता में अपनी सहायक भूमिका निभाते हैं।

      कुंडली में शनि और मंगल का पीड़ित होना इंजीनियरिंग के क्षेत्र में बाधक बनता है और व्यक्ति को प्रयास करने पर भी अपेक्षित सफलता नहीं मिल पाती।

      ALSO READ  राशिफल व पंचांग | 11th अक्टूबर 2022
      इंजीनियर बनने के कुछ खास योग
      • जन्मकुंडली में मंगल और शनि की स्थिति के साथ दशम और एकादश भाव का अध्ययन करना भी जरूरी है। क्योंकि दशम भाव आजीविका का स्थान है और एकादश आय स्थान होता है। इन दोनों घरों में बुध और बृहस्पति जैसे शुभ ग्रहों की उपस्थिति के साथ शनि-मंगल का शुभ योग हो तो जातक विशेष सफलता अर्जित करता है। 
      • मंगल इलेक्ट्रॉनिक्स का कारक है शनि मशीनों का कारक है तथा बुध कम्प्यूटर फील्ड का कारक है अतः इन तीनो ग्रहों का संयुक्त रूप से बली होना कम्प्यूटर टेक्नोलॉजी में सफलता देता है।
      • यदि कुंडली में शनि स्व उच्च राशि (मकर,कुम्भ,तुला) में होकर शुभ भाव में हो तो इंजीनियरिंग और तकनीकी कार्यों में सफलता देता है।
      • दशम स्थान का बलवान शनि जातक को एक सफल इंजीनियर तो बनाता ही है, ऐसा व्यक्ति विदेशों से धन अर्जित भी करता है। 
      • दशम भाव में बलवान मंगल की उपस्थिति भी इस फील्ड में सफलता दिलाता है। मंगल का स्व राशि मेष, वृश्चिक में होना और शुभ ग्रहों की दृष्टि होने से इलेक्ट्रॉनिक्स, बिल्डिंग निर्माण क्षेत्रों के लिए शुभ होता है। 
      • कुंडली में शनि की प्रधानता होने पर व्यक्ति मेकैनिकल, वाहन और मशीनों से जुड़े तकनीकी कार्यों में आगे बढ़ता है तथा मंगल की प्रधानता सिविल इंजीनियरिंग, निर्माण कार्य, और इलेक्ट्रिकल क्षेत्र में सफलता देता है।
      • लग्नस्थ बुध पर मंगल या शनि की दृष्टि हो तथा बृहस्पति द्वितीय भाव में स्थित हो अथवा इन तीनों ग्रहों का किसी भी रूप में शुभ संबंध बन रहा हो तो जातक कंप्यूटर इंजीनियर होता है|
      • शनि यदि चतुर्थ भाव में हो तो दशम भाव पर दृष्टि होने से भी टेक्नीकल फील्ड में सफलता मिलती है।
      •  मंगल का स्व उच्च राशि (मेष,वृश्चिक मकर) में शुभ स्थान में होना भी इंजीनियरिंग में सफलता देता है।
      • दशम भाव पर शनि की दृष्टि हो, बुध शनि की राशि में, या शनि बुध की युति या बुध पर शनि की दृष्टि का प्रभाव हो तो जातक को कंप्यूटर इंजीनियर के रूप में अच्छी सफलता प्राप्त होती है।
      • कुंडली में शुभ भावों में शनि और मंगल का योग होना भी व्यक्ति को इंजीनियरिंग और तकनीकी कार्यों से जोड़ता है।
      • शनि से त्रिकोण में मंगल यदि शुभ और बली स्थिति में हो तो यह भी व्यक्ति को इंजीनियरिंग के क्षेत्र से जोड़ता है।
      • मंगल यदि बली होकर दशम भाव में हो तो इंजीनियरिंग में सफलता मिलती है।
      • बली स्थिति में स्थित मंगल की दशम भाव पर दृष्टि पड़ना भी इंजीनियरिंग के क्षेत्र से जोड़ता है।
      ALSO READ  राशिफल व पंचांग | 18th जनवरी 2024

      ज्योतिषीय दृष्टि से शनि और मंगल इंजीनियरिंग और तकनीकी कार्यों में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और इस क्षेत्र में किस व्यक्ति को किस स्तर की सफलता मिलेगी, यह उसकी व्यक्तिगक कुंडली के बल पर निर्भर करता है पर यहाँ एक विशेष बात यह भी है कि शनि और मंगल का बली होना व्यक्ति में तकनीकी कार्यों के प्रति रुचि और प्रतिभा तो देता है परंतु अच्छी शिक्षा और बौद्धिक क्षमता के बिना इस क्षेत्र में आगे बढ़ना संभव नहीं होता अतः कुंडली में पंचम भाव, पंचमेश, बुध और बृहस्पति जितनी अच्छी स्थिति में होंगे उतनी ही अच्छी प्रतिभा और सफलता व्यक्ति को देंगे यदि ये उपरोक्त घटक कुंडली में पीड़ित या कमजोर होने से व्यक्ति अच्छी शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाता है, और ऐसे में इंजीनियरिंग के क्षेत्र में आगे बढ़ना भी संभव नहीं हो पाता इसलिए शिक्षा के इन घटकों का बली होना भी बहुत आवश्यक है, यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि और मंगल तो बहुत बलवान हों परंतु शिक्षा के ग्रह कमजोर होने से उसकी शिक्षा पूरी न हो पाए तो ऐसा व्यक्ति तकनीकी कार्यों से जुड़कर मिस्त्री या तकनीकी कारीगर के रूप में अपनी आजीविका चलाता है।

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,838FansLike
      80FollowersFollow
      721SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles