More
    42.8 C
    Delhi
    Monday, May 20, 2024
    More

      || सोन चिरैया ||

      माँ मैं तेरी सोन चिरैया प्रतिदिन घर में चहकूँगी,
      बेला और चमेली जैसे आँगन में मैं महकूँगी ।


      पापा काम से आयेंगे तो ठंडा पानी लाऊँगी,
      पहले भैया को दूँगी मैं पीछे खाना खाऊँगी ।


      घर पर कोई संकट आया तो मैं लपट सी लहकूँगी,
      माँ मैं तेरी सोन चिरैया प्रतिदिन घर में चहकूँगी ।


      ना ओछे कपड़े पहनूँगी,ना मैं नाक कटाऊँगी,
      शाला से जैसे छूटूंगी, सीधी घर में आऊँगी ।


      किसी मनचले के बहकाने पर मैं कभी न बहकूँगी,
      माँ मैं तेरी सोन चिरैया प्रतिदिन घर में चहकूँगी ।


      प्रेम भरी मीठी बोली से सारे दुख मैं हर लूँगी,
      तुम्हें हुआ यदि जाड़ा, खाँसी घर के काम में कर लूँगी ।


      भजन आरती गाऊँगी तो कोयल जैसी कुहकूँगी,
      माँ मैं तेरी सोन चिरैया प्रतिदिन घर में चहकूँगी ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || जल जीवन का सार है ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,837FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles