More
    30.1 C
    Delhi
    Friday, April 12, 2024
    More

      || ठंडा मीठा पानी ||

      ठंडा मीठा पानी

      प्यास बुझाता है जन-जन की ठंडा-ठंडा मीठा पानी,
      समझ न पायें कीमत जल की तो ये है अपनी नादानी ।

      बता गये थे बड़े सयाने,पानी के बिन है सब सून,
      पानी बिन न पकता खाना, पक सकता बिन मिर्ची नून ।

      मानव हो या पशु शरीर में आधे से भी अधिक है पानी,
      प्यास बुझाता है जन-जन की ठंडा-ठंडा मीठा पानी ।

      पानी से ही संभव बाग,बगीचे,लता,घास और फूल,
      बिन पानी है नीरा मरुस्थल,तपन आग और धूल ही धूल ।

      पानी से ही भोर सुनहरी और संध्या भी लगे सुहानी,
      प्यास बुझाता है जन-जन की ठंडा-ठंडा मीठा पानी ।

      पानी से है हरियाली जो किरणों से मिल बने हवा,
      अन्न,फूल, फल,लकड़ी,कोयला,जड़ी-बूटियाँ और दवा ।

      प्राण वायु न मिली तो जीवन रह जाये बस निरी कहानी,
      प्यास बुझाता है जन-जन की ठंडा-ठंडा मीठा पानी ।

      पानी से ही बने मेघ,इंद्रधनुष सतरंगा अंबर पर,
      नदियां, नाले झरने,कुएँ तालाब व सागर सर-सर-सर ।

      बूंद बूंद जल की है कीमत करो न जल से तुम मनमानी,
      प्यास बुझाता है जन-जन की ठंडा-ठंडा मीठा पानी ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      FOR MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE.

      ALSO READ  || बचपन के पंछी ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,753FansLike
      80FollowersFollow
      718SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles