Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
पर्यावरण संताप | 2YODOINDIA POETRY | लेखिका श्रीमती प्रभा पांडेय जी | पुरनम | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY JI

|| उमड़-घुमड़ कर बरखा रानी ||

उमड़-घुमड़ कर बरखा रानी

उमड़-घुमड़ कर बरखा रानी,चले अनोखी चाल,
कहीं बूँद जल ना बरसाये,कहीं करे बेहाल ।

अतिवृष्टि है जहाँ,वहीं पर,आ रही नित बाढ़,
अनावृष्टि है जहाँ वहाँ, हो गया है निरा उजाड़,
तड़क रही जलहीन भूमि, पर कहीं बह गया माल,
उमड़-घुमड़ कर बरखा,चले अनोखी चाल ।

कहीं वृक्ष और पौधों पर,नवजीवन का है बोध,
कहीं सूख झर गये हैं पत्ते,दिखे प्रकृति का क्रोध,
कहीं बनी तलवार है बरखा,कहीं बनी है ढाल,
उमड़-घुमड़ कर बरखा रानी,चले अनोखी चाल ।

कहीं ताकते बैठे बादल, को अनवरत किसान,
कहीं बहा कर ले गया है जल,उसका धन और धान,
वातावरण असंतुलन का,अद्दभुत है भँवरजाल,
उमड़-घुमड़ कर बरखा रानी,चले अनोखी चाल ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || जलचर ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.