More
    30.1 C
    Delhi
    Thursday, June 20, 2024
    More

      Unnao News : सनातन सरोकार संस्था ने मुरझाए पौधों को जीवित करने का लिया संकल्प

      पर्यावरण संरक्षण का मुद्दा आज की तारीख में न केवल देश बल्कि दुनिया भर में अत्यधिक महत्व का हो गया है। औद्योगिकीकरण, शहरीकरण और अनियंत्रित जनसंख्या वृद्धि ने हमारे पर्यावरण पर अत्यधिक दबाव डाल दिया है। इससे न केवल हमारे प्राकृतिक संसाधनों का ह्रास हो रहा है, बल्कि वायु, जल और भूमि प्रदूषण भी तेजी से बढ़ रहा है। इस समस्या के समाधान के लिए सरकारों, संस्थाओं और नागरिकों द्वारा कई प्रयास किए जा रहे हैं। इन्हीं प्रयासों में एक महत्वपूर्ण पहल की है ‘सनातन सरोकार संस्था’ ने, जिसने इस पर्यावरण दिवस पर मुरझाए पौधों को जीवित करने का संकल्प लिया है।

      सनातन सरोकार संस्था के पदाधिकारियों ने पर्यावरण के अस्तित्व को बचाए रखने के लिए इस पर्यावरण दिवस पर यह फैसला किया कि वे नए पेड़ लगाने के बजाय उन पौधों की देखभाल करेंगे, जो पहले से लगाए गए हैं लेकिन उनकी उचित देखभाल के अभाव में वे मुरझा गए हैं। आमतौर पर देखा जाता है कि कई अवसरों पर, विशेषकर पर्यावरण दिवस पर, बड़ी संख्या में पौधे लगाए जाते हैं। लेकिन समय के साथ, इन पौधों की देखभाल नहीं हो पाती और वे सूख जाते हैं। इसी समस्या को देखते हुए सनातन सरोकार संस्था ने यह मुहिम शुरू की है।

      सनातन सरोकार संस्था के संस्थापक इंजीनियर निकुंज बाजपेई और संस्था के अन्य पदाधिकारियों ने इन पौधों की देखरेख और संरक्षण की जिम्मेदारी का संकल्प लिया। उन्होंने कहा कि केवल पौधे लगाना ही पर्याप्त नहीं है, बल्कि उनकी उचित देखभाल भी आवश्यक है ताकि वे विकसित होकर पर्यावरण में अपना योगदान दे सकें। इसी दिशा में कदम बढ़ाते हुए, संस्था ने आज सुबह गांधी नगर तिराहे के डिवाइडर में लगे पौधों की देखभाल का काम शुरू किया। 

      ALSO READ  DealShare Appoints Santana Ramakrishnan as Chief Human Resources Officer

      ये पौधे, जो केवल लगाकर छोड़ दिए गए थे और बेहद बुरी स्थिति में थे, संस्था द्वारा सुधारकर उनमें खाद और पानी दिया गया। इसके अलावा, ट्री गार्ड्स की मरम्मत की गई और उनके संरक्षण का संकल्प लिया गया। इस कार्य के दौरान संस्था के कई सदस्य और अन्य सहयोगी संस्थाओं के सदस्य भी शामिल हुए।

      संस्था की सह संयोजिका इंजीनियर शालिनी बाजपेई ने बताया कि इस मुहिम का उद्देश्य केवल पौधों को जीवित रखना नहीं है, बल्कि समाज में यह संदेश फैलाना भी है कि पर्यावरण संरक्षण के लिए हमें हर स्तर पर काम करना होगा। उन्होंने कहा कि अगर हम केवल पौधे लगाकर उन्हें छोड़ देंगे तो इससे कोई लाभ नहीं होगा। हमें उनकी उचित देखभाल करनी होगी ताकि वे हमारे पर्यावरण को स्वच्छ और हरा-भरा बना सकें।

      डा. प्रभात सिन्हा, जो अभ्युदय सेवा संस्थान के संस्थापक हैं, ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए हमें अपनी सोच में बदलाव लाना होगा। उन्होंने कहा कि केवल बड़े-बड़े आयोजन करके पौधे लगाना पर्याप्त नहीं है, बल्कि हमें उनकी देखभाल और संरक्षण पर भी ध्यान देना होगा। 

      राहुल राम द्विवेदी, जो 2YoDoINDIA News Network और 2YoDoARMY NGO के संस्थापक हैं, ने इस अवसर पर कहा कि पौधों की देखभाल करना और उन्हें जीवित रखना बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि हमारे छोटे-छोटे प्रयास भी बड़े बदलाव ला सकते हैं और पर्यावरण को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। 

      अधिवक्ता आशीष मिश्रा ने कहा कि इस तरह की पहल से न केवल पर्यावरण संरक्षण में मदद मिलेगी, बल्कि यह समाज में जागरूकता फैलाने का भी काम करेगी। उन्होंने कहा कि हर नागरिक का कर्तव्य है कि वे अपने आस-पास के पर्यावरण का ध्यान रखें और इसे स्वच्छ और सुरक्षित बनाने में योगदान दें। 

      ALSO READ  उत्तर प्रदेश : मौसम विभाग ने इन जिलों में जारी किये येलो अलर्ट और रेड अलर्ट

      बृजेश चंद्र शुक्ला और हर्षित पांडे ने इस मुहिम को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया और कहा कि वे नियमित रूप से इन पौधों की देखभाल करेंगे और उनके विकास की निगरानी करेंगे। 

      इस मुहिम में युवा समाजसेवी सौम्या अवस्थी के नेतृत्व में सहयोगी संस्था स्वप्न फाउंडेशन के सदस्य भी शामिल हुए। स्वप्न फाउंडेशन के सदस्य आख्या तिवारी, तनीशा श्रीवास्तव, और उदय अवस्थी ने भी पौधों की सेवा और संरक्षण किया। 

      इस मुहिम का मुख्य उद्देश्य समाज में यह संदेश फैलाना है कि पर्यावरण संरक्षण के लिए हमें केवल दिखावे के लिए काम नहीं करना चाहिए, बल्कि हमें वास्तविक और प्रभावी कदम उठाने होंगे। अगर हम हर पौधे की देखभाल करेंगे और उसे जीवित रखेंगे तो यह न केवल हमारे पर्यावरण को सुधारने में मदद करेगा, बल्कि यह हमारे आने वाली पीढ़ियों के लिए भी एक स्वच्छ और स्वस्थ पर्यावरण का निर्माण करेगा। 

      पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सनातन सरोकार संस्था की यह पहल एक महत्वपूर्ण कदम है। इससे न केवल पर्यावरण को सुधारने में मदद मिलेगी, बल्कि यह समाज में जागरूकता फैलाने का भी काम करेगी।

      वही दिनांक 2 मई 2024 को पर्यावरण की सजग प्रहरी सनातन सरोकार संस्था के पदाधिकारियों ने विश्व साइकिल दिवस पर अभियान चलाकर गोकुल बाबा मंदिर के आसपास सफाई की। मंदिर के पास बिखरी प्लास्टिक और पॉलिथीन एकत्र कर उसका निस्तारण किया।

      संस्था के लोगों ने साइकिल यात्रा भी निकाली। संस्था के जिला संयोजक इंजीनियर निकुंज बाजपेई ने बताया कि नियमित साइकिल चलाना व्यक्ति को शारीरिक रूप से स्वस्थ रखता है। पर्यावरण के लिहाज से भी यह फायदेमंद है। अभ्युदय सेवा संस्थान के अध्यक्ष डॉ. प्रभात सिन्हा ने बताया कि सनातन सरोकार का उद्देश्य पर्यावरण संरक्षण को लेकर लोगों को जागरूक करना है।

      ALSO READ  The 85 Ghats of Banaras | बनारस के 85 घाट | Kashi

      संस्था के इस संकल्प और प्रयास की सराहना करते हुए, स्थानीय लोगों ने भी अपनी खुशी और समर्थन व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इस तरह की पहल से न केवल पर्यावरण को सुधारने में मदद मिलेगी, बल्कि यह समाज में एक सकारात्मक संदेश भी फैलाएगा। 

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,836FansLike
      80FollowersFollow
      723SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles