Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
माँ में तेरी सोनचिरैया | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY 2YODOINDIA POETRY

|| उसका क्या कसूर है | USKA KYA KASOOR HAI ||

उसका क्या कसूर है

वैश्या है गर तो इसमें उसका क्या कसूर है,
क्यूं सुकूने-जिंदगी उससे ही सदा दूर है ।

उसके होने में ही उसकी झांकती मजबूरियाँ,
इंसानियत से दूर बहुत दूर तक तलक दूरियाँ ।

उसमें भी कसूर कहीं आपका जरूर है,
वैश्या है गर वो इसमें उसका क्या कसूर है ।

आपकी हैवानगी का खून उसमें बह रहा,
आपकी दरिंदगी को रोते रोते कह रहा ।

उसकी बेबसी क्यों सब्र करने को मजबूर है,
वैश्या है वो तो इसमें उसका क्या कसूर है ।

चाहतें उसमें भी रहती आप ही की तरह,
आशियां भी चाहती वो आप ही की तरह ।
आपसा ही हक उसे भी चाहिये जरूर है,
वैश्या है गर वो उसमें उसका क्या कसूर है ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

ALSO READ OTHER POETRYमाँ में तेरी सोनचिरैया

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || सुर की रानी ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.