More
    35.1 C
    Delhi
    Tuesday, April 23, 2024
    More

      || उसका क्या कसूर है | USKA KYA KASOOR HAI ||

      उसका क्या कसूर है

      वैश्या है गर तो इसमें उसका क्या कसूर है,
      क्यूं सुकूने-जिंदगी उससे ही सदा दूर है ।

      उसके होने में ही उसकी झांकती मजबूरियाँ,
      इंसानियत से दूर बहुत दूर तक तलक दूरियाँ ।

      उसमें भी कसूर कहीं आपका जरूर है,
      वैश्या है गर वो इसमें उसका क्या कसूर है ।

      आपकी हैवानगी का खून उसमें बह रहा,
      आपकी दरिंदगी को रोते रोते कह रहा ।

      उसकी बेबसी क्यों सब्र करने को मजबूर है,
      वैश्या है वो तो इसमें उसका क्या कसूर है ।

      चाहतें उसमें भी रहती आप ही की तरह,
      आशियां भी चाहती वो आप ही की तरह ।
      आपसा ही हक उसे भी चाहिये जरूर है,
      वैश्या है गर वो उसमें उसका क्या कसूर है ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      ALSO READ OTHER POETRYमाँ में तेरी सोनचिरैया

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || सुर की रानी ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,752FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles