More
    31.7 C
    Delhi
    Friday, April 19, 2024
    More

      || वीरांगना लक्ष्मी बाई की याद में ||

      वीरांगना लक्ष्मी बाई की याद में

      सभी मशाल रैलियाँ निकालने वालों,
      समाधि पर उसकी दीप ही जलाया होता ।

      ढिंढोरा पीट कर मना रहे बलिदान दिवस,
      कभी उस याद पर इक फूल चढ़ाया होता ।

      देवी साहस की बलिदान की प्रतिमूर्ति,
      असूल उसका जिंदगी में अपनाया होता ।

      वतन की आन थी,स्वाभिमान की जननी,
      कभी उसके सिद्धान्तों पे दिल आया होता ।

      मिट गई खुद मगर आन नहीं मिटने दी,
      आदर्शों पर उसके शीश झुकाया होता ।

      उतर आई थी उस पर ज्यों मैदान में दुर्गा,
      वो दुर्गा माँ स्वरूप याद में लाया होता ।

      देकर जान भी लेकर रहेंगे आजादी,
      कभी इरादा पक्का इतना बनाया होता ।

      मुंदी आँखों से उसकी रौशनी महसूस करो,
      सहारा क्यों मशाल का तुम्हें भाया होता ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      FOR MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE माँ में तेरी सोनचिरैया

      ALSO READ  || माँ रामायण है गीता है ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,752FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles