More
    35.1 C
    Delhi
    Tuesday, April 23, 2024
    More

      || व्यवहार भी सिखाईये ||

      मात्र पढ़ाई नहीं व्यवहार भी सिखाईये,
      कष्ट के समय बने आधार भी सिखाईये ।

      पढ़ाई ही पढ़ाई, स्नातक फिर स्नातकोत्तर,
      रोटी,सब्जी,मुरब्बा,अचार भी सिखाईये,
      मात्र पढ़ाई नहीं व्यवहार भी सिखाईये ।

      पुस्तक ज्ञान ही नहीं होता संपूर्ण ज्ञान है,
      गैस,कुकर,ओवन की रफ्तार भी सिखाईये,
      मात्र पढ़ाई नहीं व्यवहार भी सिखाईये ।

      जितनी है चादर वो पैर मात्र उतने पसारे,
      बात बात में न ले उधार भी सिखाईये,
      मात्र पढ़ाई नहीं व्यवहार भी सिखाईये ।

      चुक न जाये आटा, नमक ध्यान रखे सर्वदा,
      और अपाहिज पे हो उपकार भी सिखाईये,
      मात्र पढ़ाई नहीं व्यवहार भी सिखाईये ।

      दिन न रहते एक से किसी घर परिवार में,
      सुख के साथ दुख करे स्वीकार भी सिखाईये,
      मात्र पढ़ाई नहीं व्यवहार भी सिखाईये ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || लड़की इक फुलवारी सी ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,752FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles