More
    42.8 C
    Delhi
    Monday, May 20, 2024
    More

      || वाह री मैया न्याय तेरा ||

      भैया तो खेल बस खेले,घर की सफाई मेरे नाम,
      वाह री मैया न्याय तेरा मैं देखा करती सुबह शाम ।
      कभी -कभी तो आँख बचाकर दूध मलाई देती हो,
      दाल-भात बस मेरे आगे धीरे से सरका देती हो ।
      देख देख अभ्यस्त हो गई हूँ मैया ये तेरा काम,
      वाह री मैया न्याय तेरा मैं देखा करती सुबह शाम ।
      भैया के क्या गाल हैं मीठे हर पल चुम्मी देती हो,
      मैं जो गाल करूँ आगे तो बस थप्पड़ जड़ देती हो ।
      मुझपे प्रेम जताया तो क्या रूठ जायेंगे सीताराम,
      वाह री मैया न्याय तेरा मैं देखा करती सुबह शाम ।
      सोता भी है भैया तो तुम आँचल में सिमटा लेती,
      मैंने देख लिया तो मैया झट नजरें पलटा लेती ।
      ऐसा कर के मिल जाता है मैया क्या तुमको आराम,
      वाह री मैया न्याय तेरा मैं देखा करती सुबह शाम ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || मासूम सा था चेहरा | MASOOM SA THA CHEHRA ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,837FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles