More
    37.1 C
    Delhi
    Thursday, June 20, 2024
    More

      || आशु-वाणी | मिटा दो दुश्मन की नापाक कहानी ||

      मिटा दो दुश्मन की नापाक कहानी

      नापाक हरकतें सुनते-सुनते पाक की,
      कान हमारे रहे हैं पाक।
      तुम न जाने किस इन्तजार में,
      रहे हो बगलें झाँक।

      अरे ! कौआ न समझेगा कोयल वाली बानी।
      रक्त हमारा खौल रहा और,
      उबाल मार रहा अन्दर का पानी।
      तुम खाते और खिलाते आये,
      दुश्मन को बिरयानी।
      बार-बार के बम विस्फोटों से,
      हर-हर, बम-बम बोल,
      मिटा दो दुश्मन की नापाक कहानी।

      लेखक
      श्री विनय शंकर दीक्षित
      “आशु”

      READ MORE POETRY BY ASHU JI CLICK HERE
      JOIN OUR WHATSAPP CHANNEL CLICK HERE

      ALSO READ  || माता-पिता का आशिर्वाद ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,835FansLike
      80FollowersFollow
      723SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles