More
    37.1 C
    Delhi
    Thursday, June 20, 2024
    More

      || चाल-चलन ||

      चाल-चलन

      रंग बदलते चेहरों की, पहिचान समझ न आती है ।
      मुँह मे राम बगल में छूरी, परिभाषित कर जाती है ।।
      माना दीपक तले अँधेरा, हर जीवन मे होता है ।
      पर मानव की मानवता पर, वतन अभागा रोता है ।।

      इंसानों के चाल-चलन, हो गये जानवरों से बदतर ।
      मानव ने खुद बना लिया, अपना दानव सा है स्तर ।।
      अपनी बहन-बेटियों पर भी, नजर छिछोरी रखता है ।
      मान और सम्मान ताक रख, कुछ पैसों में बिकता है ।।

      झूठ-फरेबी, चाटुकारिता, रग-रग मे है बसी हुई ।
      संस्कारिता जनजीवन की, लगता गिरवी रखी हुई ।।
      इंसानों के धर्म-कर्म सब, तार-तार से लगते है ।
      अपने चाल-चलन ही से सब, रावण वंशज दिखते है ।।

      लेखक
      राकेश तिवारी
      “राही”

      READ MORE POETRY BY RAHI JI CLICK HERE
      JOIN OUR WHATSAPP CHANNEL CLICK HERE

      ALSO READ  गुरु गोविंद सिंह जयंती आज | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,835FansLike
      80FollowersFollow
      723SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles