Home tech how to Cricket Created by potrace 1.15, written by Peter Selinger 2001-2017 shop more
पर्यावरण संताप | 2YODOINDIA POETRY | लेखिका श्रीमती प्रभा पांडेय जी | पुरनम | WRITTEN BY MRS PRABHA PANDEY JI

|| गर ये प्यारी रात न होती ||

गर ये प्यारी रात न होती

सोचो कैसा नीरस लगता गर ये प्यारी रात न होती,
हर पल सूरज तपता रहता तारों की बारात न होती ।

सुबह की शीरीं सी खुशबू दिलकश शाम कहां से आती,
चर्चे होते आसमान के चांद की फिर भी बात न होती ।

माना समय बीतता जाता घण्टे मन्दिर में भी बजते,
पूजा, दिया,आरती जैसी रस्में मय-जज्बात न होती ।

सुबह की चींची चिड़ियों की ठंडी मीठी हवा न मिलती,
चम-चम चांद से आने वाली किरणों की बरसात न होती ।

काम सदा करते हम रहते जीवन जीते बिल्कुल आधा,
मीठी नींद के सपनों से भी अपनी तो मुलाकात न होती ।

चेहरे पर सुबह की सुन्दरता आ पाती ना कभी ताजगी,
आशिक तो होते दुनियां में आशिकी खुश-हालात न होती ।

शबनम ना मिलती फूलों पर रात की रानी कहते किसको,
सूरजमुखी भला क्यों खिलते,भीनी सी परभात न होती ।
शम्मा परवानों की महफिल भला कहां मुमकिन हो पाती,
साकी और सुराही होते मय नगमों के साथ न होती ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

ALSO READ  || उमस ||
Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.