More
    30.1 C
    Delhi
    Sunday, July 14, 2024
    More

      मंगल राहु की युति जेल जाने के योग क्यों बनाती है | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष

      किसी भी व्यक्ति के जीवन में उसके कुंडली में ग्रहों की स्थिति के अनुसार ही उसका जीवन और उसकी खुद की प्रवृत्ति निर्धारित होती है। अगर किसी भी व्यक्ति के लग्न से 12 वें खाने में अगर राहु की स्थिति बनती है तो व्यक्ति के लिए उसके जीवनकाल में एक न एक बार जेल जाना पड़ सकता है इसके साथ ही ग्रहों की स्थिति मंगल और राहु की जोड़ी का कुंडली के स्थान से भी निर्धारित होता है और इसका असर पड़ता है। 

      कुंडली में मंगल-राहु की जोड़ी बहुत कुछ असर डालती है। मंगल और राहु ग्रह की युति व्यक्ति के ऊर्जा स्तर और उसकी आक्रामकता को प्रदर्शित करता है।

      मंगल ग्रह की प्रवृत्ति

      मंगल ग्रह अग्नि का कारक है और यह गृह ऊर्जा का स्रोत भी माना जाता है। इसलिए जिस भी व्यक्ति का मंगल ग्रह स्ट्रांग रहता है उसके अंदर ऊर्जा का पर्याप्त भण्डार होता है और कभी कभी इसकी स्थिति हिंसक भी हो जाती है इसलिए अगर मंगल कुपित होता है तो तो यह नुकसानदायक भी हो जाता है। 

      ALSO READ  गायत्री मंत्र | पुरुषों की अपेक्षा स्त्रियों को इस उपासना का लाभ अधिक मिलता है | 2YoDo विशेष

      राहु ग्रह की प्रवृत्ति 

      राहु ग्रह की प्रवृत्ति छाया गृह  माना जाता है और व्यक्ति इसके प्रभाव में आकर। व्यक्ति को किसी भी काम को करने में confuse कर देता है और वह अपना पूरा ध्यान नहीं दे पाता है। बिना किसी भी ठोस जानकारी के बावजूद यह कुतर्क करने लगता है इसके कारण उसके काम बनते बनते बिगड़ जाता है। रोग कुछ न कुछ बना रहता है और बिना किसी कारण से खर्च बढ़ जाता है।  

      राहु और मंगल युति जब भी एक घर में एक साथ होती है तो जीवन में कठिनाई ही कठिनाई आती है चूँकि दोनों ग्रह विपरीत ग्रह हैं इसलिए आर्थिक संकट का सामना करना पद सकता है।

      पहले घर में मंगल राहु की युति का असर 

      लग्न के पहले घर में अगर व्यक्ति की कुंडली में मंगल और राहु की युति होती है तो व्यक्ति का सबसे पहले स्वास्थ्य प्रभावित होता है। व्यक्ति आक्रामक भी हो सकता है। चूँकि दिमाग बहुत कंट्रोल नहीं रहता है इसलिए anxiety भी हो सकती है।

      दूसरे घर में मंगल राहु की युति का असर 

      अगर किसी भी व्यक्ति के दूसरे घर में मंगल राहु की युति होती है तो आँख की परेशानी हो सकती है। घर में पैसे की परेशानी भी हो  सकती है।

      तीसरे घर में मंगल राहु की युति का असर   

      कुंडली के तीसरे घर में मंगल और राहु की युति होने के कारण घर के बुजुर्गों को समस्या हो सकती है उनकी तबियत खराब रह सकती है। लेकिन इस घर में युति के कारण व्यक्ति निर्भक होता है। व्यक्ति को skin disease हो सकती है जिससे बचने की जरुरत है।

      ALSO READ  शरद पूर्णिमा आज | जानिए पूरी जानकारी | 2YoDo विशेष

      चौथे घर में मंगल राहु की युति का असर   

      ऐसे लोगों का मन अशांत रहता है और अपने घर से हमेशा दूर ही रहने का कुछ न कुछ संयोग बना रहता है।

      पांचवें घर में मंगल राहु की युति का असर   

      जिन व्यक्ति के कुण्डी के पांचवे घर में राहु और मंगल की युति होती है ऐसे लोगों  पर विपरीत असर पड़ता है और शिक्षा बहुत संतोषजनक नहीं हो पाती है। महिलाओं को गर्भ धारण करने में समस्या आती है ,पेट की बीमारियां रहती है अक्सर जिससे बचने का उपाय करना चाहिए।

      छठवें घर में मंगल राहु की युति का असर

      कुंडली से छठे घर में मंगल राहु की युति होने से व्यक्ति अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करता है। मुकदमों में उसे सफलता मिलती है लेकिन छोटी मोटी समस्या बनी रहती हैं।

      सातवें घर में मंगल राहु की युति का असर  

      कुंडली से सातवें घर में मंगल राहु की युति बनने के कारण वैवाहिक जीवन बहुत ही परेशानियों भरा रहता है। विवाह में देरी होती है और दाम्पत्य जीवन सुखी न होने के कारण या तो ऐसे लोग अलग हो जाते हैं या तलाक हो जाता है। अगर प्रेम सम्बन्धों में रहते हैं तो वह भी सफल नहीं हो पाता है।

      आठवें घर में मंगल राहु की युति का असर 

      जिन व्यक्ति के कुंडली में आठवें  घर में मंगल राहु की युति होती है उनको पेट के रोग की समस्या  रहती है। हर काम में है अवरोध होता रहता है कोई भी काम बनते बनते बिगड़ जाता है। दुर्घटना होने के भी संयोग बनते हैं।

      ALSO READ  Scientists Create New Ultrahard Glass that Means No More Cracked Smartphone Screens

      नौवें घर में मंगल राहु की युति का असर 

      जिन व्यक्ति के कुंडली में नौवें घर में मंगल राहु की युति होती है उनके उच्च शिक्षा में बाधाएं रहती हैं। पिता के साथ अनबन बनी रहती है। यात्राएं बहुत ही कम होती हैं।

      दसवें घर में मंगल राहु की युति का असर 

      दसवें घर में मंगल राहु की युति होने के कारण नौकरी या व्यवसाय में स्थिरता नहीं रहती है और बार बार कारोबार बदलता रहता है और नौकरी अगर करते रहते हैं तो नौकरी में बदलाव होता रहता है। नौकरी या कारोबार अपेक्षित सफलता नहीं दिला पाता है।

      11वें घर में मंगल राहु की युति का असर 

      ऐसे लोग काफी भाग्यशाली होते हैं जिनके 11 वे भाव में मंगल राहु की युति होती है तो ऐसे लोगों को आकस्मिक धन की प्राप्ति होती है। ऐसे लोगों का राजनितिक कैरियर काफी सफल होता है। राजनीती में उच्च शिखर पर भी जा सकते हैं।

      12वें घर में मंगल राहु की युति का असर 

      जिन व्यक्ति के कुंडली में 12 वे घर में मंगल राहु की युति होती है  उनको क़ानूनी पचड़ों में पड़ सकता है चोट लग सकती है और जेल जाने का भय रहता है। शादी शुदा जिंदगी भी बहुत अच्छी नहीं चलती है।

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,836FansLike
      80FollowersFollow
      721SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles