More
    42.8 C
    Delhi
    Monday, May 20, 2024
    More

      || मेरे अंतस में उजियारा ||

      मेरा अंतस में उजियारा भरा-भरा सा लगता है,
      ना जाने भय भी क्यों मुझको जरा-जरा सा लगता है ।

      कभी तो बरबस खिल जाती हैं कलियाँ मन के आँगन की,
      और कभी तन-मन महका देती खुशियाँ अंतर्मन की,

      जग जो लगता था उजड़ा सा हरा-भरा सा लगता है,
      मेरे अंतस में उजियारा भरा-भरा सा लगता है ।

      और कभी आकाश के तारे बना लीये हैं घेरा सा,
      दूर भले ही कितना भी हो चंदा लगता मेरा सा,

      हृदय ममता के माणिक से जड़ा-जड़ा सा लगता है,
      मेरे अंतस में उजियारा भरा-भरा सा लगता है ।

      कोई अनदेखी सी शक्ति आ गई जैसे जीवन में,
      और नई एक धड़कन जुड़ गई इस सीने की धड़कन में,

      ये करिश्मा तो कुदरत का बड़ा-बड़ा सा लगता है,
      मेरे अंतस में उजियारा भरा-भरा सा लगता है ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || अश्रु का सागर (स्त्री) | ASHRU KA SAGAR ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,837FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles