|| प्रदूषित वातावरण ||

प्रदूषित वातावरण

हो रहा ज्यों-ज्यों प्रदूषित आना वातावरण है,
बढ़ रहा विनाश की तरफ हमारा चरण है ।

ओजोन रक्षा छतरी में हो चुका जो छिद्र है,
वर्षा की जगह आम्ल वर्षा ले रही अवतरण है ।

बम रासायनिक बना रहे हैं बड़े देश सब,
कर रहे सब छोटे देश उन्हीं का अनुकरण हैं ।

जल रहें हैं तेल कुएं धू-धू अरब देश के,
बढ़ रहा है तापक्रम और बढ़ रही है तपन है ।

पर्वतों की बर्फ जो पिघल रही है लगातार,
डूबते सागर किनारे इसी का उदाहरण है ।

जानते हैं सब है संकट बहुत बड़ा सामने,
शनैः-शनैः आदमी का पतन है, मरण है ।

वृक्ष,हरियाली और प्रकृति रक्षा का हो एक ध्येय,
अन्यथा मनुष्यता बस शोलों की ही शरण है ।

लेखिका
श्रीमती प्रभा पांडेय जी
” पुरनम “

READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

Leave a Reply