More
    39.1 C
    Delhi
    Tuesday, May 21, 2024
    More

      || करती है संघर्ष माँ | KARTI HAI SANGHARSH MAA ||

      करती है संघर्ष माँ

      जब से लेता जन्म बच्चा करती है संघर्ष माँ,
      कुछ बड़ा होने पर उसका बनती है आदर्श माँ ।

      नींद ना आने पर उसको लोरी भी सुनाती है,
      और कभी बिजली जो कौंधी सीने से लगाती है ।
      सोच तक पाती ना कैसे बीत जाते वर्ष माँ,
      जब से लेता जन्म बच्चा करती है संघर्ष माँ ।

      स्कूल जब जाता है बच्चा स्वयं छोड़ आती है,
      स्नान,बस्ता और डिब्बा भोर से लगाती है ।
      लौटता है स्कूल से तो व्यक्त करती हर्ष माँ,
      जब से लेता जन्म बच्चा करती है संघर्ष माँ ।

      स्कूल का गृहकार्य करवाती है और पढ़ाती है,
      पास होने पर वो बड़े स्नेह से सहलाती है ।
      रक्षा करती इस तरह ज्यों धरती पर हो अर्श माँ,
      जब से लेता जन्म बच्चा करती है संघर्ष माँ ।

      देख मुखड़ा समझ जाती आयेगा बच्चे को ज्वर,
      डॉक्टर से भी पहले ही हो जाती है उसे खबर ।
      कहाँ ठहर पाये पीड़ा,करती है जब स्पर्श माँ,
      जब से लेता जन्म बच्चा करती है संघर्ष माँ ।

      लेखिका
      श्रीमती प्रभा पांडेय जी
      ” पुरनम “

      FOR MORE POETRY BY PRABHA JI VISIT माँ में तेरी सोनचिरैया

      READ MORE POETRY BY PRABHA JI CLICK HERE

      DOWNLOAD OUR APP CLICK HERE

      ALSO READ  || घनघोर काली रातों के साये ||

      Related Articles

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Stay Connected

      18,843FansLike
      80FollowersFollow
      720SubscribersSubscribe
      - Advertisement -

      Latest Articles